Journeys🧑‍🦯 Explorations🪂 and Adventures🧗
Ladakh
Ladakh

Ladakh

 

Ladakh भारत का एक केंद्र शासित प्रदेश है।Ladakh को 31 अक्टूबर 2019 को एक केंद्र शासित प्रदेश प्रशासित किया गया था। Ladakh एक बेहद ही खूबसूरत जगह है जहां की हर चीज़ ही अलग है फिर चाहे यहां के पहाड़ हो या यहां के पेड़ या नदियां ,लदाख को इस दुनिया का ठंडा रेगिस्तान भी कहा जाता है।
Ladakh के लोग  पर्यटकों का बहुत ही सम्मान से स्वागत करते हैं।

Places to visit in Ladakh

1.Shanti stupa,Ladakh

Shanti stupa

लेह में शांति स्तूप एक शानदार सफेद गुंबद वाला बौद्ध स्तूप है जो चांसपा गावँ मैं एक पहाड़ी के ऊपर 11,841 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह बौद्धों के लिए एक धार्मिक स्थान है यह पर्यटकों के बीच भी लोकप्रिय है, जब शांति स्तूप पर पूर्णिमा की रात चांद की रौशनी पड़ती है ,तब यह बहुत ही सुंदर दिखता है।

शांति स्तूप का निर्माण 1991 में जापानी बौद्ध भिक्षु ग्योम्यो नाकामुरा द्वारा किया गया था। बौद्ध धर्म के 2500 वर्ष पूरे होने और विश्व शांति को बढ़ावा देने के लिए जापानी और लद्दाखी बौद्धों द्वारा संयुक्त रूप से निर्माण किया गया था। जो भी पर्यटक ladakh आता है तो वो शान्ति स्तूप देखना नही भूलता।

2.Nubra valley

Nubra valley ladakh

Nubra valley ladakh का एक ऐतिहासिक क्षेत्र है, नुब्रा घाटी लेह से लगभग 140 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नुब्रा वैली मैं आपको बहुत कुछ देखने को मिलता है यहां के मठ बहुत ही famous है।

नुब्रा वैली हुंदर बैक्ट्रियन ऊंट की सवारी के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है। बैक्ट्रियन ऊंट दो कूबड़ वाले दुर्लभ प्रकार के होते हैं ,नुब्रा वैली में आपको कई एक्टिविटीज करने को मिलती है जैसे jipline , atv राइड ओर भी बहुत कुछ।

3.Pangong lake

Pangong lake ladakh

Pangong lake Ladakh मैं स्तिथ सबसे Famous लेक है ओर यह 4225 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक एंडोरहिक झील है। ladakh आने वाला हर पर्यटक इस लेक पर जरूर आता है ,सच पूंछो तो ये है ही इतनी खूबसूरत पांगोंग लेक का colour बदलता रहता है ।वह स्थान जहां बॉलीवुड फिल्म “3 इडियट्स” की शूटिंग की गई थी।

Pangong lake के लिए आपको एकइनर लाइन परमिट की आवश्यकता होती है। भारतीय नागरिक आसानी से व्यक्तिगत परमिट प्राप्त कर सकते है लेह में पर्यटन कार्यालय में एक छोटे से शुल्क देकर आपके परमिट प्राप्त कर सकते है। सर्दियों मैं यह झील पूरी

4.Magnetic hill

magnetic hill ladakh

Ladakh का लोकप्रिय मैग्नेटिक हिल एक साइक्लोप्स हिल है जो कि निम्मू से लगभाग 7.5 किमी दूर हैं क्षेत्र और आसपास की पहाड़ियों का लेआउट इसे एक ऑप्टिकल भ्रम देता है। डाउनहिल रोड एक चढ़ाई वाली सड़क प्रतीत होती है जो कार को धीरे-धीरे गति प्राप्त करने की ओर ले जाती है जो गुरुत्वाकर्षण के खिलाफ ऊपर की ओर जा रही प्रतीत होती है।

5.Khardung La

khrdung la ladakh

खारदुंग ला , लेह से 40 किमी की दूरी पर जम्मू और कश्मीर के Ladakh क्षेत्र में एक उच्च पर्वतीय दर्रा है। खरदुंग ला श्योक और नुब्रा घाटी के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। खारदुंग ला 5602 मीटर की ऊंचाई पर भारत में सबसे ऊंची मोटर योग्य सड़क के रूप में लोकप्रिय है।

जब आप यहां आते है तो आपको बड़ा अच्छा महसूस होगा क्योंकि व्यूज तो यहां से अच्छे होते ही साथ मैं ये दुनिया की सबसे ऊंची मोटर योग्य सड़क भी है। यहाँ जाने के लोए भारतीय यात्रियों को इनर लाइन परमिट की जरूरत होती है , जिसे आप लेह कार्यालय से प्राप्त कर सकते है । हाई अल्टीट्यूड होने की बजह से यहां पर ऑक्सिजन लेवल बहुत ही नीचे होता हैं तो जब आप यहाँ जाए तो यहां पर 20 मिनट से ज्यादा ना बिताये।

6.Tso Moriri,Ladakh

tso moriri ladakh

त्सो मोरीरी झील भारत की सबसे बड़ी ऊंचाई वाली झील है जो 4,522 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। Ladakh और तिब्बत के बीच चांगटांग क्षेत्र में स्थित यह पैंगोंग झील का जुड़वा है। इसकी लंबाई उत्तर से दक्षिण तक लगभग 19 किमी और चौड़ाई 3 किमी है। त्सो मोरीरी जाने के लिए इनर लाइन परमिट की आवश्यकता होती है,सर्दियों के मौसम मैं यह झील भी पूरी तरह से जम जाती है। पांगोंग लेक और त्सो मोरीरि झील के बीच की दूरी लगभाग 235 किमी की है जिसमें कोई भी फ्यूल स्टेशन नही आता तो आप पर्याप्त ईधन ले कर चले।

7.Thiksey Monastery

Thiksey monestry ladakh

थिकसे मठ एक तिब्बती शैली का मठ है जो लेह से 19 किमी दक्षिण में लेह मनाली रोड़ पर स्थित है। बारह मंजिला मठ एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है, जो शहर और नीचे सिंधु घाटी के शानदार दृश्य पेश करता है। इस मठ की ऊंचाई लगभाग 3600 मीटर है। इस मठ के अंदर आपको बौद्ध कला की कई वस्तुएं देखने को मिलेगी जैसे पेंटिग, तलबार,मूर्तियां आदि।

8.Rafting in Ladakh

ladakh

River Rafting ladakh का एक बहुत ही साहसिक खेल है। और बहुत ही लोकप्रिय है ,ये एक्टिविस्ट सिर्फ गर्मियों के मैसम मैं ही यहां हो पाती है क्योंकि सर्दियों मैं तो यहां की सिंधु नदी ( indus river) तो जम जाती है ।

9.Diskit Monastery

Diskit ladakh

डिस्किट मठ ladakh के नुब्रा वैली का सबसे पुराना और सबसे बड़ा बौद्ध मठ है,इसकी स्थापना 14वी शाताब्दी मैं हुई थी,इस मठ में एक स्कूल भी है जो “द तिब्बत सपोर्ट ग्रुप” नामक एक गैर सरकारी संगठन के सहयोग से चलाया जाता है। स्कूल कंप्यूटर की सुविधा प्रदान करता है और अंग्रेजी भाषा में तिब्बती बच्चों को विज्ञान भी पढ़ाता है। दिस्कित मठ अपने त्योहार “डोस्मोचे” के लिए प्रसिद्ध है, जिसका अनुवाद बलि का बकरा के त्योहार में किया जाता है। इस उत्सव के दौरान बुराई पर अच्छाई की शक्ति को व्यक्त करने वाले भिक्षुओं का प्रदर्शन एक होता है, कहा जाता है कि इस नृत्य से दुर्भाग्य का नाश होता है।

10.Zanskar valley

zanskar valley ladakh

Ladakh मैं स्तिथ जंस्कार वैली बहुत ही खूबसूरत है , ज़ांस्कर कच्चे परिदृश्य के लिए जाना जाता है और यहां पर ज्यादातर ट्रेकिंग और रिवर राफ्टिंग के लिए पर्यटक आते है।

जांसकर वैली मैं आपको देखने के लिए बहुत कुछ मिलेगा जैसे कि यहाँ के बर्फ से देखे पहाड़ , यहाँ की सुंदर नदियाँ यहाँ के जीव ओर यहां की बनस्पति , यहां के लोग पर्यटकों को स्वागत बहुत ही अच्छे से करते है । ये ऐसा इलाका है कि यहाँ पर साल के 9 महीनों तक तो बर्फ ही रहती है।

11.Pathar Sahib Gurudwara,Ladakh

ladakh

गुरुद्वारा पत्थर साहिब एक खूबसूरत गुरुद्वारा है, जो गुरु नानक देव को समर्पित है। यह लेह से 25 किमी दूर लेह कारगिल रोड पर स्थित है। गुरुद्वारा अत्यधिक पूजनीय है क्योंकि इसमें एक चट्टान है जो गुरु नानक की पीठ के समान है। और इस गुरुद्वारे का राखराखब यहाँ के स्थानीय लोग ओर सेना करती है।

12.Bactrian Camel Safari

ladakh

नुब्रा वैली  हुंदर बैक्ट्रियन ऊंट की सवारी के लिए बहुत ही  प्रसिद्ध है। बैक्ट्रियन ऊंट दो कूबड़ वाले दुर्लभ प्रकार के होते हैं ,नुब्रा वैली में आपको कई एक्टिविटीज करने को मिलती है जैसे jipline , atv राइड ओर भी बहुत कुछ।

13.Chadar Trek,Ladakh

chadar trek ladakh

चादर ट्रेक एक बहुत ही famous ट्रेक है जिसको करने के लिए पूरे भारत से लोग ladakh आते है , ये बहुत ही साहस भरा ट्रेक है ,क्योंकि ये उस समय होता है जब पूरा ladakh जमा रहता है , चादर ट्रेक जमी हुई जंस्कार रिवर के ऊपर होता है । ये life time एक्सपीरियंस होता है ।

14Turtuk village

turtuk village ladakh

तुरतुक Ladakh के नुब्रा घाटी क्षेत्र में श्योक नदी के तट पर स्थित एक छोटा सा गाँव है। यह भारत का सबसे उत्तरी गाँव है जो बाल्टिस्तान क्षेत्र में भारत पाकिस्तान सीमा के बहुत करीब स्थित है। जिसे केवल 2010 में पर्यटकों के लिए खोला गया था। अपने छोटे घरों और खेतों के लिए ही ये प्रसिद्ध है। यह सर्दियों में Ladakh से 6 महीने तक कटा रहता है।

परमिट:
भारतीयों को एक इनर लाइन परमिट प्राप्त करने की आवश्यकता है और टर्टुकी में प्रवेश करने के लिए एक सरकारी आईडी दिखाना होगा
परमिट ऑनलाइन भी उपलब्ध हैं

15.Shyok Village

shyok viilage ladakh

श्योक गांव लेह और पैंगोंग झील के बीच नुब्रा घाटी क्षेत्र में स्थित एक छोटा गावँ है। श्योक नदी के तट पर स्थित, यह छोटा सा गाँव कुछ ही घरों और परिवारों के साथ एक अलग स्थान है। यह गावँ आपको एक अलग ही दुनिया मे ले जाएगा मानो आप स्वर्ग मैं आ गए हो यहां मन को बहुत ही ज्यादा शांति मिलेगी। क्योंकि यह प्रकृति से जुड़ा हुआ है।यह पूरा गावँ सौर्य ऊर्जा से चलता है । क्योंकि यहां बिजली नही है।

16.Chang La

ladakh

Chang la pass एक बेहद ही ऊंचा पहाड़ी दर्रा है ,इसकी ऊंचाई लगभग 5391 मीटर है ।और यह भी दुनिया की सबसे ऊंची मोटर योग्य सड़क है । यह इतनी ऊंचाई पर है कि आप यहां पर 20 मिनट से ज्यादा न रुके क्योंकि हाई alltitude होने की बजह से यहाँ पर ऑक्सीजन की कमी होती है । जो आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है। और यहां की ज्यादातर सड़के पक्की है और यह लगभाग 15 किमी लंबा पास बाइकर्स के लिए बेहद ही लोकप्रिय है । यह पूरे बर्स ही बर्फ से ढका रहता है।

17.Hunder village

हुंदर Ladakh जिले मे वासा हुआ एक सुंदर गावँ है जो अपने रेत के टीलों, ठंडे रेगिस्तान और बैक्ट्रियन ऊंट की सवारी के लिए जाना जाता है। हुन्डर ट्रेकर्स के बीच लोकप्रिय है। यह गावँ पाकिस्तान की सीमा के पास स्थित है।आपको यहाँ जाने के लिए इनर लाइम परमिट की जरूरत पड़ेगी।

18.Sangam

यह संगम Ladakh में निम्मू गावँ मैं सिंधु और ज़ांस्कर नदियों का संगम है। यह लेह श्रीनगर सड़क लेह से 35 किमी दूर स्थित है। इस बिंदु पर दोनों नदियों को अलग-अलग मिलते हुए देखा जा सकता है। सिंधु नदी चमकदार नीले रंग के रूप में दिखाई देती है, ज़ांस्कर नदी मैला हरा दिखाई देती है। यह देखने के लिए एक शानदार स्थल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.