Journeys🧑‍🦯 Explorations🪂 and Adventures🧗
Bageshwar
Bageshwar

Bageshwar

Bageshwar उत्तराखंड का एक छोटा सा शहर है, ये अपनी नदियों,मंदिरों और पहाड़ों के लिए बहुत प्रसिद्ध है। यहाँ पर कई मंदिर है जो बहुत ही माने जाते है। ये शहर 2 नदियों के संगम पर स्थित है जिनके नाम सरयू और गोमती है।

इस शहर का धार्मिक महत्ब बहुत ज्यादा है इसलिए यहां हर साल कई भक्त और पर्यटक आते है। Bageshwar सहर का उल्लेख कई पुराणों मैं भी मिलता है, Bageshwar सहर का नाम भी Bagnath मंदिर के नाम पर पड़ा है।

Places to visit in Bageshwar

1.Bagnath Temple, Bageshwar

Bagnath temple bageshwar

बागनाथ बहुत ही प्राचीन मंदिर है ,ये मंदिर बागवान शिव को समर्पित है। बागनाथ का अर्थ है ‘Tiger loard’ और इसी के नाम पर Bageshwar सहर का नाम पड़ा था। शिवरात्रि के उत्सव पर यह पूरा सहर भक्तों से भरा रहता है। आपको मंदिर मे कई प्रकार की पीतल की घंटियां देखने को मिलेंगी जो मंदिर की वास्तुकला को दिखाती है।

इस मंदिर का इतिहास बहुत पुराना है ,मंदिर सतबी सदी से अस्तित्ब मैं था ,परंतु इसकी वर्तमान शैली की इमारत 1450 मैं बानी थी। यह मंदिर अपने धार्मिक ,ऐतिहासिक,शिव मंदिर ,तीर्थयात्रा इसी के लिए बहुत प्रसिद्ध है।

2.Sunderdhunga Trek

bageshwar

Sunderdhunga trek कुमाऊँ क्षेत्र का एक बहुत ही famous ट्रेक है ,सुंदरधुंगा ट्रेक का अर्थ है ‘पत्थरों की घाटी’, यह ट्रेक उतराखण्ड का एक बहुत ही खूबसूरत और आकर्षक ट्रेक है। इस खूबसूरत ग्लेसियर को देखने का सबसे अच्छा टाइम मार्च से जून का है क्योंकि इन दिनों मौसम बहुत ही साफ रहता है ,इसके अलावा आप चाहे तो यहां सितंबर से नवंबर लेकिन तब तक मौसम काफी ठंडा हो जाता है और दिसंबर महीने से यहां बर्फबारी चालू हो जाती है। इस ट्रेक तक आप आराम से पहुंच सकते है क्योंकि Bageshwar से सभी सड़के जुड़ी हुई है।

3.Baijnath

bageshwar

Baijnath उत्तराखंड राज्य और Bageshwar जिले का एक बहुत ही प्राचीन शहर है,जो कि गोमती नदी के किनारे पर बसा हुआ है, जिसकी ऊंचाई 1126 मीटर है। जब आप यहां आएंगे तो आप पाएंगे कि इस शहर का धार्मिक महत्व बहुत ज्यादा है। यहां के प्राचीन मंदिर पूरे भारत मे Famous है। इस शहर का नाम बैजनाथ मंदिर के नाम पर पड़ा है, महाशिवरात्रि के उत्सव पर यह शहर पर्यटकों से भर जाता है।

बैजनाथ मैं कई अच्छे होटल है जहाँ आप रुक सकते है यहां का बढ़िया खाना एन्जॉय कर सकते है और आप यहां बड़ी आसानी से पहुंच सकते है क्योंकि यह शहर Bageshwar के पास स्तिथ है लगभग 20 किमी दूर है।

4.Kanda

bageshwar

कांडा उत्तराखंड राज्य का एक गावँ है जो अपने देवी के मंदिर के लिए बहुत प्रसिद्ध है,जिसका नाम कालिका मंदिर है,ये गावँ बहुत ही सुंदर है क्योंकि ज्यादा भीड़भाड़ नही होती शांति का माहौल होता है, ओर ये गावँ प्रकृति प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नही है।

इस गावँ का इतिहास भी बहुत दिलचस्प है, 7वी से 13वी सताब्दी तक, कांडा कत्यूरी राजाओं के शासन मैं था ,जिन्होंने कुमायूं राज्य पर पूरी तरह से शासन किया था,ये राजा गंगोली के मनकोटी राजाओं से हार गए थे और इन्होंने अपनी सत्ता खो दी थी ,फिर 16वी सताब्दी के दौरान, चंद्र राजवंश ने कांडा पर कब्ज़ा कर लिया,और इसे अपने कुमायूं साम्राज्य मैं मिला दिया ।

5.Pindari Glacier Trek

उत्तराखंड का कुमाऊं क्षेत्र,ऐसा क्षेत्र है जहां पर कई ट्रेक है जो एक से बढ़कर एक है और इन ट्रेकों को करने के लिए adventure lover पूरे भारत से यहां आते है । जैसे Munsiyari से मिलम ग्लेसियर ट्रेक ऐसे ही कई ट्रेक है,

Pindari glaciar trek ऐसा ट्रेक है, की जब आप इसी करते हो तो आप बहुत दूर दूर बेस हुए गांवों को देखोगे ,बर्फ से लदे पहाड़ , ओर Nature से भारी हुई हर चीज़ आपको मिलेगी। जिसे आप अपनी लाइफ भर नही भूल पाओगे ।

इस तरह के हर ट्रेक मानसून के बाद सितंबर से अक्टूबर मैं आयोजित कराये जाते है। और ये पिंडारी ग्लेसियर ट्रेक 15000 से 16000 फ़ीट तक कि ऊंचाई, ओर 5 से 15 दिन तक का ट्रैक है जिसमे आपके साथ आपका गाइड ओर आपका पोर्टर आता है। पिंडारी ग्लेशियर देवभूमि, उत्तराखंड के Bageshwar जिले में समुद्र तल से 3,353 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ओर ये 3.2 किमी क्षेत्र मैं फैला हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.