Journeys🧑‍🦯 Explorations🪂 and Adventures🧗
kausani
kausani

kausani

Kausani उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में स्थित एक हिल स्टेशन है। जो की बेहद ही खूबसूरत है। हिमालय मैं बहुत ही कम ऐसे स्थान है जो की इस जगह की तुलना कर सकते है।त्रिशूल,नंदा देवी ,पंचाचूली जैसी खूबसूरत चोटियां यहां से दिखाई देती है।

Kausani की ऊंचाई 1890 मीटर की है। और यह शहर अल्मोड़ा से 52 किमी की दूरी पे स्तिथ है बहती खाड़ी, Kausani हनीमून मनाने वालों, प्रकृति प्रेमियों और यात्रियों के लिए आदर्श है। कौसानी में सर्दियों के महीनों में बर्फबारी होती है।

Ideal time

अप्रैल-जून और अक्टूबर-फरवरी के दौरान घूमने के लिए kausani का हिल स्टेशन सबसे अच्छा है। हालांकि, इसकी भौगोलिक स्थिति, घने वनस्पति वाले रिज पर स्थित है, अप्रैल से जून के अंत तक कई पर्यटकों को आकर्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस प्रकार मौसम दिन के दौरान सुखद रूप से ठंडा रहता है, जिससे पर्यटक हिल स्टेशन का पता लगा सकते हैं। अक्टूबर से फरवरी की शुरुआत तक सर्दियाँ भी एक आदर्श समय है क्योंकि तापमान 9 डिग्री सेल्सियस के आसपास मंडराता है, जिससे दिन के समय दर्शनीय स्थलों की यात्रा एक सुखद अनुभव बन जाती है।

Places to visit in Kausani

1.Gwaldam

ग्वालदम हरे भरे जंगल से घिरा हुआ एक सुंदर स्थान है जो की गडवाल और कुमाऊं के बीच में बसा हुआ है। यह खूबसूरत हिल स्टेशन समुद्र तल से लगभग 1700 मीटर की ऊंचाई पर स्तिथ है। यह पूरा शहर देवदार के घने जंगल और सेब के बाघों से घिरा हुआ है। आप gwaldam मैं कई एक्टिवी कर सकते है जिसमें सबसे फेमस ट्रेकिंग है जो की रूपकुंड झील, कुआरी दर्रा ,और नंदा देवी के ट्रेकिंग के ट्रेकिंग मार्ग सामिल है।

2.Baijnath temple,Kausani

kausani

बैजनाथ एक बेहद ही खूबसूरत गोमती नदी के किनारे पे बसा हुआ शहर है,और इसकी ऊंचाई 1126 मीटर की है।यहां का प्राचीन मंदिर बेहद ही लोकप्रिय है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है।यह अपने ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के कारण बागेश्वर में घूमने के लिए महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है। माना जाता है की बैजनाथ मंदिर का निर्माण कुमाऊं कत्यूरी राजा ने 1150 ई मैं कराया था।

3.Rudradhari falls and caves,Kausani

यह जलप्रपात कौसानी से लगभग 12 किमी की दूरी पे देवदार के घने जंगलों से घिरा हुआ बेहद ही खूबसूरत है।इस झरने को देखने के बाद आप एक दम ही मंत्रमुग्ध हो जायेंगे क्योंकि यह प्रकृति की गोद मैं बसा हुआ है।

4.Trek to pinnath

kausani

यह ट्रेक Kausani से लगभग 5 किमी लम्बा है ।पिन्नाथ तक केबल ट्रेक कर के ही पहुंचा जा सकता है। यह ट्रेक सुंदर भी बहुत है जिसकी सुंदरता मैं आप खो जायेंगे। यह ट्रेक जंगल से घिरा हुआ है। पिन्नाथ लगभग 2750 मीटर की ऊंचाई पे स्तिथ है । पिन्नाथ का मंदिर भगवान भैरों को समर्पित है। यदि आप अक्टूबर के महीने मैं ये यात्रा करते है तो आप पिन्नाथ मैं लगने वाले मेले का भी हिस्सा बन सकते है।

5.Kausani tea estate

kausaniयह एक ऐसी जगह है जहां प्रकृति के बेहद करीब और चाय प्रेमियों के लिए जन्नत का अहसास होगा। कौसानी टी एस्टेट, मुख्य शहर से 5 किमी दूर स्थित है, जो 208 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है।


यह स्थान अपने स्वयं के कर्मचारियों द्वारा निर्देशित अपनी निर्माण प्रक्रिया को दिखाने के लिए एक छोटे से दौरे की व्यवस्था भी करता है। वहां से आप अलग-अलग स्वाद वाली चाय का स्वाद ले सकते हैं और खरीद सकते हैं। इसके अलावा यह एक अद्भुत स्थान है जहाँ आप टहल सकते हैं लेकिन ध्यान रखें कि नवंबर से मार्च तक यहाँ न जाएँ, जब यह बंद रहता है।

Itinerary

एक दिवसीय यात्रा कार्यक्रम के लिए दर्शनीय स्थलों की यात्रा और भ्रमण के लिए बहुत सारे विकल्प हैं। प्रकृति के जादुई जादू और हमारे राष्ट्रपिता गांधीजी की शिक्षाओं के तहत बिताया गया एक सुबह का क्षण। अनाशक्ति आश्रम और एक संग्रहालय से सिर्फ एक किलोमीटर दूर लक्ष्मी आश्रम है, जो गांधीजी के शिष्य द्वारा शुरू किया गया एक शैक्षणिक संस्थान है। होटल में एक हार्दिक नाश्ता और आप एक बार फिर इस अद्भुत शहर के छिपे रहस्यों का पता लगाने के लिए तैयार हैं। बैजनाथ मंदिर की शांति के साथ अपनी यात्रा शुरू करें जो आपका दिन बना देगी। बाद में आप या तो पिन्नाथ की यात्रा कर सकते हैं, जो कच्ची प्रकृति और एक मंदिर से धन्य स्थान है या चाय उत्पादन के विस्तृत विवरण के साथ एक चाय बागान का पता लगा सकते हैं। यदि आपके पास अभी भी समय बचा है, तो रुद्रधारी फॉल्स और गुफाओं के लिए जाएं। हालांकि, लंच के लिए ब्रेक लेना न भूलें। होटल में हार्दिक डिनर के साथ, अपनी अविश्वसनीय यात्रा समाप्त करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.